Tagged: Time

1

शाम होते ही वो सूरज से हुकूमत छीन लेता है

शाम होते ही वो सूरज से हुकूमत छीन लेता है,*_ _*सुबह होते ही वो तारो की कियादत छीन लेता है,*_ . _*तरीके सीख उसकी ज़मीन पे चलने-फिरने के,*_ . _*तकब्बूर करने वालों से वो...

0

न “माँग” कुछ जमाने से

        *न “माँग” कुछ जमाने से*           *ये देकर “फिर” सुनाते हैं*       *किया “एहसान” जो एक बार*            *वो “लाख”...