Tagged: Best

0

लेती नहीं दवाई “माँ”, …poem 

लेती नहीं दवाई “माँ”, जोड़े पाई-पाई “माँ”। दुःख थे पर्वत, राई “माँ”, हारी नहीं लड़ाई “माँ”। इस दुनियां में सब मैले हैं, किस दुनियां से आई “माँ”। दुनिया के सब रिश्ते ठंडे, गरमागर्म रजाई...

0

ﺭﺍﺿﯽ ﭘﺮﻭﺭﺩﮔﺎﺭ ﻧﮩﯿﮟ ﮨﻮﺗﺎ

​ﺑﮍﯼ ﺗﭙﺶ ﮨﮯ ﯾﮧ ﺍﭘﻨﮯ ﮔﻨﺎﮨﻮﮞ ﮐﯽ ﻣﯿﺮﮮ ﺷﮩﺮ ﮐﺎ ﻣﻮﺳﻢ ﺧﻮﺷﮕﻮﺍﺭ ﻧﮩﯿﮟ ﮨﻮﺗﺎ ﺩﻥ ﺑﮭﺮ ﮐﺮﺗﮯﮨﯿﮟ ﻧﻔﺮﺗﯿﮟ ﺍﻧﺴﺎﻥ ﺳﮯ ﺍﻭﺭ ﮐﮩﺘﮯ ﮨﯿﮟ ﺭﺍﺿﯽ ﭘﺮﻭﺭﺩﮔﺎﺭ ﻧﮩﯿﮟ ﮨﻮﺗﺎ. Share on: WhatsApp

0

خوبصورت دل کی شاعری 

ﺧﻮﺑﺼﻮﺭﺕ ﺩﻟﻮﮞ ﮐﯽ ﺍﮎ ﺧﺎﻣﻮﺵ ﺻﺪﺍ ﮬﻮﺗﯽ ھے۔۔۔ ﺍﺏ ﺗﻤﮩﯿﮟ ﮐﯿﺎ ﺑﺘﺎﺋﯿﮟ , ﻣﺤﺒﺖ ﮐﯿﺎ ﮬﻮﺗﯽ ﮬﮯ۔۔۔ Share on: WhatsApp