Tagged: 4 lines

0

​हाथों में पत्थर नहीं

हाथों में पत्थर नहीं, फिर भी चोट देती है… ये जुबान भी अजीब है, अच्छे-अच्छों के घर तोड देती है.. Share on: WhatsApp

0

​रुकावटें तो जनाब 

​रुकावटें तो जनाब ज़िन्दा इन्सान के  हिस्से में ही आती हैं, वरना जनाज़े के लिए रास्ता तो  सभी छोड़ देते हैं…।। Share on: WhatsApp

happy diwali in advance 0

Happy Diwali in Advance

Happy Diwali in Advance joke In Hindi बुरा ना मानो होली है’ कह कर… मेरे पड़ोसी ने मुझ पर रंग फेंका था… कल मैंने भी… ‘बुरा ना मानो दिवाली है’ कह कर.. . उस...

0

ﺭﺍﺯ ﯾﮧ ﮐﮭﻮﻟﺘﺎ ﻧﮩﯿﮟ

​ﮐﻮﻥ ہوﮞ ، ﮐﯿﺎ ہوﮞ ، ﮐﯿﺎ ﻧﮩﯿﮟ ہوں ﻣﯿﮟ ﺭﺍﺯ ﯾﮧ ﮐﮭﻮﻟﺘﺎ ﻧﮩﯿﮟ ہوﮞ ﻣﯿﮟ ﺍﯾﮏ ﺩﻥ ﺍﭘﻨﮯ ﺩﺭ ﭘﮧ ﺩﺳﺘﮏ ﺩﯼ ﺍﻭﺭ ﭘﮭﺮ ﮐﮩﮧ ﺩﯾﺎ , ﻧﮩﯿﮟ ہوﮞ ﻣﯿﮟ جون ایلیا Share...