Category: माँ poem

0

लेती नहीं दवाई “माँ”, …poem 

लेती नहीं दवाई “माँ”, जोड़े पाई-पाई “माँ”। दुःख थे पर्वत, राई “माँ”, हारी नहीं लड़ाई “माँ”। इस दुनियां में सब मैले हैं, किस दुनियां से आई “माँ”। दुनिया के सब रिश्ते ठंडे, गरमागर्म रजाई...