Category: Hindi Shayari

0

ज़मीर पर धूल 

तमन्ना है… इस बार बरस जाये ईमान की बारिश, हमारे  ज़मीर पर धूल बहुत है… Share on: WhatsApp

0

​हाथों में पत्थर नहीं

हाथों में पत्थर नहीं, फिर भी चोट देती है… ये जुबान भी अजीब है, अच्छे-अच्छों के घर तोड देती है.. Share on: WhatsApp

0

लेती नहीं दवाई “माँ”, …poem 

लेती नहीं दवाई “माँ”, जोड़े पाई-पाई “माँ”। दुःख थे पर्वत, राई “माँ”, हारी नहीं लड़ाई “माँ”। इस दुनियां में सब मैले हैं, किस दुनियां से आई “माँ”। दुनिया के सब रिश्ते ठंडे, गरमागर्म रजाई...

0

​रुकावटें तो जनाब 

​रुकावटें तो जनाब ज़िन्दा इन्सान के  हिस्से में ही आती हैं, वरना जनाज़े के लिए रास्ता तो  सभी छोड़ देते हैं…।। Share on: WhatsApp

0

 अपने  वो होते है 

” सपने ”  वो होते है , “जो ”  ‘ सोने ‘  नही देते  और … ” अपने ”  वो होते है  ” जो ”  ‘ रोने ‘  नही देते  ….Good night….. Share on:...

0

आप नहीं होते तो

आप नहीं होते तो हम खो गए होते…  अपनी ज़िन्दगी से रुसवा हो गए होते…  ये तो आपको “गुड मोर्निंग” कहने के लिए उठें हैं …  वर्ना हम तो अभी तक सो रहे होते...