Tagged: Afsos

0

न “माँग” कुछ जमाने से

        *न “माँग” कुछ जमाने से*           *ये देकर “फिर” सुनाते हैं*       *किया “एहसान” जो एक बार*            *वो “लाख”...