Tagged: 4 lines

0

आज का विचार…दोनों हमें सिखाते हैं

🌹 *आज का विचार*🌹 *”वक़्त” और “अध्यापक” दोनों हमें सिखाते हैं। पर दोनों में फर्क सिर्फ इतना है कि…* *”अध्यापक” सिखा कर “परीक्षा” लेते हैं और “वक़्त” परीक्षा ले कर “सिखाता” है।    ...

1

शाम होते ही वो सूरज से हुकूमत छीन लेता है

शाम होते ही वो सूरज से हुकूमत छीन लेता है,*_ _*सुबह होते ही वो तारो की कियादत छीन लेता है,*_ . _*तरीके सीख उसकी ज़मीन पे चलने-फिरने के,*_ . _*तकब्बूर करने वालों से वो...

0

दरिया बनकर किसीको

*दरिया बनकर किसीको डुबाने से*                *,बेहतर है,* *की जरिया बनकर किसीको बचाया*                 *जाए !!* 🌸🌸.         ...

0

सुख बेहिसाब हैं

*जो “प्राप्त” है वो ही “पर्याप्त” है ।* *इन दो शब्दों में सुख बेहिसाब हैं।।* *जो इंसान “खुद” के लिये जीता है* *उसका एक दिन “मरण” होता है* *पर जो इंसान”दूसरों”के लिये जीता है*...

0

रात सुबह का इंतज़ार नहीं करती

“रात सुबह का इंतज़ार नहीं करती”,*       *”खुशबु मौसम का इंतज़ार नहीं करती”.!*       *”जो भी ख़ुशी मिले उसका आनंद लिया करो”,,*       *”क्योंकि जिंदगी वक़्त का इंतज़ार...

0

वक्त  तो  रेत

       वक्त  तो  रेत      फिसलता  ही  जायेगा      *जीवन  एक  कारवां   है       *चलता  चला  जायेगा          *मिलेंगे  कुछ खास       *इस  रिश्ते  के  दरमियां       *थाम  लेना  उन्हें  वरना     ...

0

मिट्टी* का *मटका*

” *मिट्टी* का *मटका* और *परिवार* की *कीमत* सिर्फ *बनाने* वाले को पता होती है , *तोड़ने* वाले को नहीं।” *संघर्ष पिता से सीखिये..!* *संस्कार माँ से सीखिये…!!* _बाकी सब कुछ दुनिया सिखा देगी…!!!_...