patthar 2 line shayari in hindi

हाथों में पत्थर नहीं, फिर भी चोट देती है…
ये जुबान भी अजीब है,

अच्छे-अच्छों के घर तोड देती है..