Hindi whatsapp shayari शाम होते ही वो सूरज से हुकूमत छीन लेता है

Hindi whatsapp shayari

शाम होते ही वो सूरज से हुकूमत छीन लेता है,*_
_*सुबह होते ही वो तारो की कियादत छीन लेता है,*_

  1. _*तरीके सीख उसकी ज़मीन पे चलने-फिरने के,*_

_*तकब्बूर करने वालों से वो इज्जत और दौलत छीन लेता है!”